Monday, October 13, 2008

निरुपमा दत्त मैं बहुत उदास हूँ...




दु:ख लड़ने के लिए 

एक बहुत बड़ा हथियार है 

जो पहले 

पानी की भाषा में 

आदमी की आँखों में आता है 

और फिर 

हाथों की धरोहर बन जाता है 

पानी के पत्थर बनने की प्रक्रिया 

आदमी के इतिहास से पहले का इतिहास है 

किन्तु अब 

यह प्रक्रिया 

आदमी के इतनी आसपास है 

कि दु:खी क्षणों में 

वह 

पानी से एक ऎसा हथियार बना सकता है 

जो दु:खों के मूल स्रोतों को 

एक सीमा तक मिटा सकता है ।

-कुमार विकल

3 comments:

सत्यम न्यूज़ said...

अच्छा लगा आप के ब्लॉग पर आके.आपकी कविता कभी कुछ बयान करती है

Snowa Borno said...

Comments?
No, Sir!
Kindly accept my Silence...
And helplessness...

Sannaata...

Is Blog ka naam
Pareshaan karta hai...
Fir Khaamosh...

shabd nahi milte...
Jab milte hain to
kisi ki baat yaad aati hai...
"Use language...
But see its mischief...''

Har kahin shabd
Bhayanak shor macha rahe hain...

Ham shabd hi ho gaye hain...
Shabdon ne hame
hamare ghar se bahar
kar diya hai...

Ham kahin aur rahte hain...
us rahne ko
kahne laayak banaate rahen...

Thanks...

Snowa Borno

atulkushwaha said...

Loved poetry. Welcome on Bollywood talkies ..